Heritage Sites

Pyarae lal Sharma Hospital,Meerut

प्यारेलाल शर्मा अस्पताल,मेरठ शहर के बीचो बीच बना हैं यह सरकारी अस्पताल जिसकी नीव रखी गई थी सन 1909 में । इस अस्पताल को पहले लुडोविक पोर्टर अस्पताल के रूप में जाना जाता था, सर लुडोविक चार्ल्स पोर्टर (1869-1928) भारत में एक वरिष्ठ ब्रिटिश प्रशासक थे। यह अस्पताल 1945 तक जिला बोर्ड (अब जिला परिषद) के प्रबंधन में रहा, 1947 में इसका नाम बदलकर प्यारे लाल अस्पताल कर दिया गया। हमेशा ही उत्सुकता थी यह जानने की आखिर कौन हैं यह प्यारेलाल शर्मा जी जिनके नाम पर इस अस्पताल और अन्य कई स्थानो के नाम जैसे पी.एैल शर्मा रोड, पी.एैल शर्मा स्मारक इत्यादि रखें गये है । प्यारे लाल शर्मा का जन्म 1873 में उत्तर प्रदेश राज्य के मथुरा ज़िले में एक ज़मींदार परिवार में हुआ था। आरंभ में प्यारे लाल शर्मा का झुकाव क्रांतिकारी गतिविधियों की ओर था, किंतु गांधी जी के दक्षिण अफ्रीका से भारत आने के बाद वे सदा के लिए कांग्रेस में सम्मिलित हो गए। असहयोग आंदोलन के समय उन्होंने अपनी खूब चलती वकालत छोड़ दी और 1922 में सत्याग्रह करके जेल चले गए। यारे लाल शर्मा का राजनैतिक कार्यक्षेत्र पश्चिमी उत्तर प्रदेश और दिल्ली था। 1924 से 1928 तक वे 'स्वराज्य पार्टी' की ओर से निर्वाचित केंद्रीय असेम्बली के सदस्य रहे। 1932 की दिल्ली कांग्रेस की स्वागत समिति के वही अध्यक्ष थे। 1937 में गोविंद वल्लभ पंत के नेतृत्व में जो पहली कांग्रेस सरकार बनी, उसमें उन्हें शिक्षा मंत्री का पद दिया गया था। परंतु कुछ प्रशासनिक और व्यक्तिगत कारणों से उन्होंने इस्तीफा दे दिया और उनके स्थान पर डॉ. सम्पूर्णानंद शिक्षा मंत्री बनाए गए थे। 1940 के 'व्यक्तिगत सत्याग्रह' में वे मेरठ में गिरफ्तार हुए। पर जेल के अंदर ही गंम्भीर रूप से बीमार पड़ जाने के कारण उन्हें रिहा कर दिया और 12 जनवरी, 1941 को दिल्ली के एक अस्पताल में उनका देहांत हो गया।



Google Location

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0