Religious Marvels

Gagole tirth,ashram of maha rishi Vishwamitra,Meerut

गगोल तीर्थ अर्थात महाऋषि विश्वामित्र का आश्रम,गगोल,मेरठ रामायण के अनुसार दण्डकारण्य में विश्वामित्र-भारद्धाज आदि महर्षियों के आश्रम-तपस्थली एवं वैज्ञानिक प्रयोगशालाएं थीं। महत्वपूर्ण स्थल होने के कारण रावण के गुप्तचर एवं सेना यहां विशेष निगरानी रखते थे। इस प्रकार मेरठ से लेकर हापुड़-गाजियाबाद-शाहदरा-बागपत आदि को समाहित करता हुआ यह दण्डकारण्य अथवा जनस्थान यमुना से लेकर गंगा तक विस्तृत भू-भाग में फैला हुआ था। इस जनस्थान में ऋषियों एवं नवीन खोजों की निगरानी के लिए खर दूषण-ताड़का-सुबाहु आदि महाभटट योद्धा निवास करते थे कहा जाता है कि खर-दूषण का निवास होने के कारण ही समीपस्थ गांव का नाम खरखौदा प्रसिद्ध हुआ। गंगोल तीर्थ से लगभग दो किलोमीटर पर आज ‘काली वनी’ के नाम से प्रसिद्ध वह स्थल है जहां भगवान राम ने ताड़का का वध किया था। विश्वामित्र ऋषि अपने यज्ञ की रक्षार्थ दशरथ से राम-लक्ष्मण को मांग कर यहीं पर लाये थे। राम ने अपने तीर के द्वारा भू-गर्भ से जल का स्रोत (किवंदन्तियों में गंगा) प्रकट किया। इसलिए इस तीर्थ एवं गांव का नाम गंगलो (गंगा व जल - गंगोल) प्रसिद्ध हुआ। दीर्घ समयावधि के कारण इतिहास ने तो इसे लगभग लुप्त सा कर दिया लेकिन वेदों की भांति श्रुति-स्मुति परम्परा में यह ताजा रहा। यहां पर एक छोटा एवं कच्चा जोहड़ सा था। दूर-दूर तक पानी के अभाव में भी यह सूखता नहीं था। ग्वालियों की एक गाय प्रतिदिन इसमें पानी पीकर एवं स्नान करके जाती थी। ग्वालियों ने चकित होकर उसका पीछा किया तो यह जोहड़ दृष्टि गोचर हुआ। स्नान आदि किया तो उन्हें ताजगी का अनुभव हुआ। तब से सभी लोग यहां पर आये और लोगों को बताया कि यह विश्वमित्र ऋषि का आश्रम और भगवान के बाण से बना तीर्थ है। इसकी प्रसिद्धि के साथ-साथ विकास भी होने लगा। यहां पर एक छोटी सी नदी बहने के चिन्ह एवं चर्चे हैं। उसे सगरा या सागरा कहा जाता था। यह भी कहा जाता है कि यह जोहड़ विश्ववामित्र के यज्ञ कुण्ड का अवशेष है। खुदाई में यहां पर आज भी राख एवं बालू रेत निकलती है। पर्यटन विभाग ने इस तालाब को विस्तृत एवं पक्का बना दिया । यहां एक धर्मशाला का निर्माण भी कराया गया है। पिण्डदान हेतु इसे दूसरा गया तीर्थ माना जाता है। इसीलिए पितृ उद्धार हेतु यहां लोग दूर-दूर से पिण्ड दान करने आते हैं। यहां पर भगवान राम, लक्ष्मण एवं शिव के मन्दिर भक्तों की आस्था के केंद्र हैं। विश्वामित्र का नाम आज भी भौतिकवाद से अध्यात्म की ओर जाने की प्रेरणा देता है। यह रामायणकालीन सरोवर करीब एक हेक्टेयर में फैला,यह सरोवर चारों ओर से पक्का बना हुआ है तथा इसमें नीचे उतने के लिए सीढियां बनी हैं। नीचे से कच्चा होने के कारण इस सरोवर में हमेशा पानी भरा रहता है। माना जाता था कि पहले इसके पानी में नहाने से फोडे-फुन्सी व सफेद फूल जैसी बीमारियां ठीक हो जाया करती थीं।



Google Location

What's Your Reaction?

like
1
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0